Nastik Se Aastik Kese Bne? | 2022 | Best News

Mtlb kya hota h :-

दोनों ही अंधविश्वासी होते हैं अर्थात बिना जाने ही मानते हैं। आस्तिक बिना जाने ईश्वर के होने को मानता है। नास्तिक बिना जाने ईश्वर के नहीं होने को मानता है। सच्चा आध्यात्मिक व्यक्ति कुछ भी मानने तैयार नहीं होता।  आस्तिक शब्द का अर्थ होता है “जिसे ईश्वर या वेद में विश्वास है” jisse bhagwan me wiswas ho,sradha rakhta ho,use aastik kehte h iswar ko manne wale unpe yakin krne wale ye v jante h ki jo hmari atma ho ti wo iswar se Judi hoti or mrityu ke bad hamara sarir to nast ho jata h wo Pancho tatwo me sama jata h lkn  jo hamari atma hoti h wo amar hoti h.

Nastik वह है जो जगत् की सृष्टि करने वाले, इसका संचालन और नियंत्रण करनेवाले किसी भी ईश्वर के अस्तित्व को fact  के न होने के आधार पर स्वीकार नहीं करता. Ese vyakti bhagwan ko nahi mante qki unko kisi ne ni dekha or unke hone ka koi proof or fact ni h is wajah ese log iswar or swarag -narak ye sari bato pe yakin ni krte, or nah he atma unhe nastik kehte h.

Nastik Se Aastik Kese Bne
Nastik Se Aastik Kese Bne

Nastik se Aastik Bane:-

अनीश्वरवादी और नास्तिक होने में थोड़ा फर्क है। अनीश्वरवादी का मतलब जो ईश्वर को नहीं मानता है और नास्तिक होने का मतलब है कि ईश्वर है या नहीं यह मैं नहीं जानता। हालांकि दोनों का अर्थ एक ही प्रकार से ध्वनित होता है। Bat ye ki har manusiya janm se astik or nastik ni hota h ye hame bataya jata h or hamare uper nirbhar krti h ki hm kya smjh rhe or kispe wiswas krte h, har koi nastik he hota h jb tk ki unhe khud pe ya fr iswar ke hone par vishwas na ho, ye to bat ki bat h hm kisi ko forcefully aastik or nastik ni bna sakte . 

Kuch ese hote h jo har chiz ko fact ki tarah se smjhna pasnd krte h or  khud ko satisfied krte h. Unhe jb tk kisi bat ka proof na mile unka yakin karna muskil hota h isme unki koi galti ni h. Qki aj ke is mahole me jaha 90% log aastik to h lkn 10% wahi nastik v h ye unki  apni pasand h.  Ishwar ko manna apni anataratma  se mehsoos karne ki bat h.lkn jb wese log jinko ishwar or vedo or atma pe yakin ni hota  or wo astik bnna chahte vishwas Krna chahte h tb  he unhe yakeen hota h ye khud se chahte h ,kV kV kisi ke sath kuch esa hota h ki wo bina yakin kiye reh ni pate tb wo aastik bnna chahte h, ye unpe depend krta h.

 Kayi ese dharm h jo iswar ke hone or na hone pe  koi sawal ni hota.

बौद्ध धर्म ईश्वर के होने या नहीं होने पर चर्चा नहीं करता उनका मानना है कि इस question  को आप tark या अन्य किसी भी तरह से हल नहीं कर सकते। ईश्वर के होने या नहीं होने की बहस का कोई अंत नहीं। ठीक उसी तरह कि स्वर्ग-नरक है या नहीं.जैन और बौद्ध दर्शन की शिक्षा ‘मुक्ति’ की शिक्षा है। स्वयं को जानने की शिक्षा है। सत्य और अहिंसा की शिक्षा है. 

जिसने स्वयं को जान लिया , उसके लिए आस्तिक-नास्तिक ,महज भाषा के शब्द भर हैं। अच्छाई के मार्ग पर चलने वाले के लिए ,अच्छा कार्य ही ईश्वर है.

हम आप जो आस्तिक कहे जाते हैं ईश्वर को कितना मानते,जानते हैं?‘’तुम देखत अवगुण करूँ, कैसे भावों तोहिं।’ वाला हाल हम सभी का है।

हम सब अगर सही मायने में आस्तिक होते तो यह स्वर्ग सी होती,और होती ‘…सर्वेसन्तु निरामया..मा कश्चिद दुख भाग भवेत’ वाली धरती।

 Nastik hone me koi glti ni qki  lkn yah Satya h ki nastik ka mtlb ye ni h bhagwan ke na hone or hone pe ese bate kre Jo ki dusre ke man ko dukh pahuchayen. Aastik  ve v nahi hote jo bhram me rehte h ki iswar  dharti pe virajman h ye bs kahi gayi bato pe dohra dene wali bat ni . Kuch log bs smjhte h ki hm astik h lkn kya  ve is sabd ka arth smjh pa rhe h,ki kewal unhe sikhaya gya h ki bhagwan hote h agr us wyakti ne sawal kiya ki kaha h ishwar  kV kisi ne dekha q ni. To iska jawab aap de payege. Koi v ni de payega issee ye smjh ata h jisse wiswas h uske man me sawal ni  hamare vedo or purano me kahi gayi bate Satya h or isse bs astik he smjh sakta h qki unhe kisi v tarah ka koi b sawal ni hota ishwar ke liye. Wahi nastik har  wakya me use prasan he milege.

 Agr koi nastik se Aastik bnna chahta h to  usse sampoorn roop se atmwiswas hona chahiye ki ishwar ka astiwa har Kan kan me h apki antaratma se awaj Ani chahiye ki  hamare charo or adrisya saktiya h jo hame muskil wakht me sath deti h or himmat deti h.

Check This https://www.cscnews.net/sasural-pass-hona-chahiye-ya-dur/

For Web Tool https://web-tool.co.in/

Leave a Comment